Pal Pal India

नवंबर बीतने को लेकिन अभी रातें ही सर्द

दिन के समय धूप रहने से नहीं प्रतीत होती ठंडक
 
नवंबर बीतने को लेकिन अभी रातें ही सर्द

नवंबर महीने का उत्तराद्र्ध चल रहा है लेकिन मौसम में अभी भी तीखापन है। सुबह शाम की गुलाबी ठंड ने गर्म कपड़े तो निकलवा दिए हैं मगर उन्हें दिनभर पहनकर रखना चुभता है। नवंबर माह के अंतिम दिनों में भी दोपहर में पारा 27 डिग्री के आसपास चल रहा है। न्यूनतम तापमान भी 11 डिग्री तक है। यानी सुबह और शाम के वक्त ठंडक का अहसास होता है। आने वाले एक सप्ताह तक ऐसा ही मौसम रहने की संभावना मौसम विभाग ने व्यक्त की है। हालांकि रात का तापमान घटकर 9 डिग्री तक पहुंचेगा मगर शनिवार से रात का तापमान भी बढ़ेगा। अभी वातावरण में नमी 45 प्रतिशत रिकार्ड की गई जिससे रात के समय हल्की धुंध हो सकती है। हवा की रफ्तार 10 किलोमीटर प्रतिघंटा चल रही है जिसकी वजह से अधिक ठंड महसूस नहीं हो रही। सुबह 10 बजे तक तापमान 20-21 डिग्री रहता है लेकिन उसके बाद बढऩा शुरू हो जाता है। शाम 4 बजे तक तापमान 26-27 डिग्री सेल्सियस के बीच रह रहा है।
किसानों में बढ़ रही चिंता
सर्दी आने में देरी होने की वजह से किसानों में चिंता महसूस की जा रही है। किसानों का कहना है कि ठंड न पड़ी तो गेहूं का दाना कमजोर रह जाएगा। इन दिनों गेहूं की बुवाई चल रही है। गेहूं की खेती का पहला चरण 25 अक्टूबर से 10 नवंबर तक होता है। दूसरा चरण 11 नवंबर से 25 नवंबर तक और तीसरा चरण 26 नवंबर से 25 दिसंबर तक रहता है। किसान चाहें तो सिंतबर के अंत से शुरू करके 25 अक्टूबर तक गेहूं की अगेती किस्मों की बुवाई कर सकते हैं।
लगातार बढ़ रही गर्मी
लगातार बढ़ रहे वाहनों, मशीनरी, फैक्ट्रियों की संख्या और प्रदूषण के चलते ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रहा है। इसका प्रभाव दुनिया के तमाम देशों पर देखा जा रहा है। भारत चूंकि गर्म देश है इसलिए यहां गर्मी का असर लंबे समय तक रहता है। पहले अक्टूबर माह में लोग रजाइयां निकाल लेते थे लेकिन अब नवंबर बीतने तक खेस कंबल से ही काम चल रहा है यानी अभी ठंड पूरी तरह शबाब पर नहीं आई है।
बदलते मौसम की बीमारियां बढ़ी
मौसम के बदलाव के साथ ही मच्छर मक्खियों का प्रकोप काफी बढ़ गया है। इसी वजह से डेंगू भी फैल रहा है। स्वास्थ्य विभाग के मलेरिया सेक्शन की ओर से फॉगिंग करवाई जा रही है परंतु यह पर्याप्त नहीं है। विभाग के कर्मचारी घर-घर जाकर लोगों को डेंगू से बचाव करने का कह रहे हैं। साथ ही उन्हें ताकीद की जा रही है कि अपने घरों में सफाई रखें व पानी खड़ा न रहने दें। अस्पतालों में डेंगू, सर्दी, बुखार, गले से संबंधित रोगियों की संख्या बढ़ रही है।
गुनगुनी धूप देती है आनंद
सुबह सवेरे गुनगुनी धूप सुहाने लगी है। स्कूलों में बच्चों की धूप में कक्षाएं लग रही हैं वहीं बड़ी आयु के लोग भी गुनगुनी धूप का आनंद लेने के लिए बाहर या छतों पर बैठ जाते हैं। हालांकि छतों पर ठंडी हवा चलने के कारण धूप का पूरा आनंद नहीं मिलता। बीच बीच में आकाश में बादल छाने से मौसम में बदलाव महसूस किया जा रहा है। अभी एक सप्ताह तक बरसात की कोई संभावना नहीं है जिससे ठंड में बढ़ोतरी हो। हालांकि बृहस्पतिवार को आकाश में बादलवाही रहने के आसार हैं।

Breaking news
राष्ट्रीय समाचार