Pal Pal India

भाजपा पहले डर फैलाती है फिर हिंसा, लेकिन किसी को डरने की जरूरत नहीं : राहुल गांधी

भारत जोड़ो यात्रा ने किया मध्य प्रदेश में प्रवेश, राहुल गांधी ने साधा भाजपा पर निशाना
 
भाजपा पहले डर फैलाती है फिर हिंसा, लेकिन किसी को डरने की जरूरत नहीं : राहुल गांधी

बुरहानपुर/भोपाल, 23 नवंबर। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के मध्य प्रदेश में प्रवेश के बाद अपने भाषण में भाजपा पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि भाजपा पहले डर फैलाती है और फिर हिंसा, लेकिन हिन्दुस्तान में किसी को डरने की जरूरत नहीं है। इस यात्रा का उद्देश्य ही इस डर को हटाना है। दरअसल, राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा बुधवार को सुबह 6.00 बजे महाराष्ट्र के जलगांव जामोद से रवाना हुई और बुरहानपुर जिले से सुबह 7.00 बजे मध्यप्रदेश में प्रवेश किया। यात्रा का पहला पड़ाव ग्राम बोदरली गांव रहा, जहां पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने स्वागत किया। राहुल गांधी की आरती उतारी गई। बंजारा लोक नृत्य कलाकार रीना नरेंद्र पवार ने उनके स्वागत में लोक नृत्य की प्रस्तुति दी। यहां से यात्रा आगे बढ़ने से पहले राहुल गांधी ने मंच से लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि इस प्यार और स्नेह के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। यह यात्रा हमने कन्याकुमारी में शुरू की थी। जब यात्रा शुरू हुई तो विपक्ष के लोगों ने कहा था कि हिंदुस्तान 3600 किलोमीटर लंबा है। यह पैदल नहीं किया जा सकता। हम मध्यप्रदेश में आए हैं। यहां 370 किलोमीटर चलेंगे। यह तिरंगा हम श्रीनगर में लहराएंगे। इसे कोई नहीं रोक सकता। यह तिरंगा श्रीनगर जाएगा। उन्होंने यात्रा का उद्देश्य बताते हुए कहा कि जो नफरत, हिंसा और डर हिंदुस्तान में फैलाया जा रहा है, उसके खिलाफ यह यात्रा है। उन्होंने कहा कि भाजपा का तरीका देखिए। सबसे पहले डर फैलाओ। किनके दिल में डर। युवाओं के दिल में डर। कैसे-बेरोजगारी बढ़ाकर। किसानों के दिल में डर। कैसे- सही दाम न देकर। बीमा का पैसा न देकर, कर्जा माफ न करके। मजदूरों के दिल में डर, मनरेगा का पैसा न देकर। पहले ये डर फैलाते हैं और जब यह डर फैल जाता है, तब हिंसा में बदल देते हैं। हिंसा कोई चीज नहीं होती। हिंसा डर का एक रूप है। जो डरता नहीं वो हिंसा नहीं कर सकता। जो डरता है, वहीं हिंसा करता है।उन्होंने कहा कि यात्रा का पहला लक्ष्य- किसान, मजदूर और युवा के मन से डर हटाना है। इस हिंदुस्तान में किसी को डरने की जरूरत नहीं है। हम जहां चल रहे हैं, युवाओं से मिल रहे हैं। उन्होंने मंच से पांच साल के बच्चे को बुलाकर पूछा कि वह क्या बनना चाहता है। उसने कहा कि बड़ा होकर डॉक्टर बनेगा। राहुल गांधी ने कहा कि बच्चे को पता है कि उसे क्या बनना है। मैं 70 दिनों से चल रहा हूं। हर प्रदेश में रुद्र जैसे बच्चे और युवाओं से मिला। 5 साल, 10 साल के बच्चों और 20 साल के युवाओं से मिलता हूं। कोई डॉक्टर तो कोई इंजीनियर बनाना चाहता है। लेकिन, देश के मौजूदा हालात ऐसे हैं कि कड़ी मेहनत के बाद भी डॉक्टर नहीं बन पाएगा। राहुल गांधी ने एक महिला रीना पवार को बुलाकर पूछा कि यूपीए की सरकार में गैस सिलेंडर का क्या दाम था। महिला ने कहा 400 रुपये, उन्होंने पूछा कि अब कितना है महिला ने कहा 1200 रुपये। इस पर उन्होंने कहा कि यह सारा पैसा किसकी जेब में जा रहा है। तीन-चार उद्योगपतियों के जेब में यह पैसा जा रहा है। उन्होंने कहा कि एमपी में पहला कदम रखा है। हम अपनी बात नहीं रखते। मुंह बंद और कान खुले रखते हैं। मन की बात नहीं, आपके मन की बात सुनते हैं। किसानों, युवाओं, व्यापारियों के मन की बात सुनते हैं। दिनभर सुनते हैं। इसके बाद यात्रा आगे रवाना हुई और सुबह करीब सवा 11 बजे बुरहानपुर के सेंट जेवियर स्कूल पहुंची। यात्रा यहां विश्राम करेगी। बुरहानपुर में दोपहर साढ़े तीन बजे यात्रा दोबारा शुरू होगी। शाम 7 बजे ट्रांसपोर्ट नगर में सभा होगी। सभा के बाद राहुल गांधी झिरी में रात रुकेंगे। यात्रा में राहुल गांधी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, अरुण यादव, सुरेंद्र सिंह शेरा, जीतू पटवारी सहित मध्यप्रदेश के कई नेता पैदल चल रहे हैं।

Breaking news
राष्ट्रीय समाचार