Pal Pal India

सीईटी का पेपर योग्यता प्रकृति का बनाने की मांग

 
सीईटी का पेपर योग्यता प्रकृति का बनाने की मांग
सिरसा, 18 नवंबर। विभिन्न संस्थानों में अध्ययनरत विद्यार्थियों ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर सीईटी का पेपर योग्यता प्रकृति (क्वालिफाइंग नेचर) का बनाने की मांग की है। नायब तहसीलदार के माध्यम से उन्होंने मुख्यमंत्री को यह पत्र भेजा। अपने पत्र में विद्यार्थियों ने लिखा कि बिना खर्ची बिना पर्ची की योजना चालू होने से बहुत गरीब तबके के पढऩे वाले उम्मीदवार जिन्हें रोजगार की आवश्यकता थी, उन्हें नौकरी मिली और इस कारण सरकार की लोक प्रियता भी बढ़ी। सब लोगों के मन में यह सपना जागा कि हम भी पढक़र सरकारी नौकरी लग सकते हैं। बाद में कुछ बिचौलियों, हैकर्स और बाकी लोगों ने सरकार की इस स्कीम की हवा निकाल दी और पिछले दरवाजे प्रवेश से बहुत सारे उम्मीदवार नियुक्त होने लगे। इसके खिलाफ सरकार ने संज्ञान लिया। सभी हैकस को पेपर लीक करवाने वाले और सभी बिचौलियों को जेल में डाल दिया। अब सीईटी का पेपर बहुत अच्छे तरीके से हुआ है जो तारीफ के काबिल है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने परिवहन की जो व्यवस्था हरियाणा रोडवेज की तरफ से की और अन्य चीजों की सुविधा दी उसके लिए भी आभार व्यक्त किया गया है। भविष्य में इसी तरह की योजना की उम्मीद जताते हुए विद्यार्थियों ने कहा कि सीईटी के पेपर के बाद आगे भर्ती की प्रक्रिया में चार गुना लोगों को बुलाने का प्रावधान है जोकि विभिन्न भर्तियों में वे ही उम्मीदवार बार-बार रिपीट होंगे और एक ही उम्मीदवार का एक से ज्यादा नौकरियों में चयन हो जाएगा जिसके कारण भर्ती प्रक्रिया पूरी नहीं होगी और फिर बाधित होगी। उन्होंने मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि इस व्यवस्था पर पुनर्विचार करें और विशेषज्ञों से विचार विमर्श करें। 
Breaking news
राष्ट्रीय समाचार