Pal Pal India

कोर्ट में गोली मारकर हत्या का आरोपी भांजा काबू

दोनों कर चुके थे कोर्ट मैरिज
 

बठिंडा में शुक्रवार शाम जिला कोर्ट कांप्लेक्स के बाहर गोली मारकर महिला की हत्या करने के मामले में आरोपी सुखपाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तार आरोपी महिला का भांजा है और दोनों कोर्ट मैरिज कर चुके थे। आपसी विवाद के कारण युवक ने महिला की हत्या कर दी। फिलहाल आरोपी के अन्य साथी के संबंध में पता नहीं चल सका है। आरोपी आपराधिक प्रवृति का व्यक्ति है जिसके खिलाफ विभिन्न थानों में 13 से अधिक मामले दर्ज हैं। आरोपी ने अपने साथी की लाइसेंसी रिवाल्वर को वारदात के लिए उपयोग किया था। आईजी सुरिंदरपाल सिंह परमार ने कहा कि रिवाल्वर के मालिक को भी मामले में नामजद किया जाएगा। आईजी सुरिंदर पाल सिंह परमार ने शनिवार को बताया कि महिला कुलविंदर कौर ने अपने पति की मृत्यु के बाद अपने भांजे सुखपाल सिंह के साथ कोर्ट मैरिज करवा ली थी। बाद में दोनों में आपसी विवाद रहने लगा। शुक्रवार को कुलविंदर कौर किसी काम से बठिंडा आई हुई थी और अदालत परिसर के बाहर खड़ी थी। इसी दौरान सुखपाल सिंह अपने एक साथी के साथ कुलविंदर के पास आया। इसी दौरान फिर दोनों के बीच विवाद हो गया। जिसके बाद सुखपाल ने कुलविंदर की गोली मारकर हत्या कर दी। उन्होने बताया कि आरोपी घटना को अंजाम देने के बाद मौके से फरार हो गया था। घटना के बाद सीआईए स्टाफ वन की पुलिस टीम ने शुक्रवार देर रात ही आरोपी सुखपाल सिंह को टी प्वाइंट मलोट रोड पर से रिवाल्वर के साथ गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपी द्वारा जो रिवाल्वर उपयोग किया गया था, वो उसके किसी साथी का है। जिसका पुलिस डिप्टी कमिश्नर कार्यालय से रिकार्ड निकलवाकर जांच करवाएगी। उन्होंने कहा कि उक्त मामले में रिवाल्वर के मालिक को भी नामजद किया जाएगा। आईजी ने बताया कि पुलिस ने कुलविंदर कौर के बेटे योशनदीप सिंह के बयान पर थाना सिविल लाइन में सुखपाल सिंह और अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या और असलाह एक्ट के तहत केस दर्ज कर अगली कारवाई शुरू कर दी है।
ट्रैफिक पुलिस ने नहीं की महिला की सहायता
अदालत परिसर के बाहर जिस जगह वारदात हुई, वहां से पचास गज दूरी पर ट्रैफिक पुलिस का हर वक्त नाका लगा रहता और वहीं नजदीक सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए है। लेकिन सीसीटीवी कैमरे भी नहीं चल रहे थे और नाके पर तैनात ट्रैफिक पुलिस कर्मियों ने महिला की कोई सहायता नहीं की और ना ही आरोपियों को पकड़ने का प्रयास किया। घटना के बाद जो एक वीडियो वायरल हो रहा, उसमें आम पब्लिक ही घायल महिला को उठाकर आटो में सवार कर अस्पताल ले जा रही, लेकिन पास खडे़ ट्रैफिक पुलिस के दो कर्मियों ने कोई सहायता नहीं की बल्कि एक मोबाइल फोन पर बात करता रहा, दूसरा लोगों को आदेश दे रहा है। जब आईजी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे जांच करवा लेंगे।
पुलिस आरोपी को अदालत में पेश कर करेगी पुलिस रिमांड हासिल
आईजी सुरिंदर पाल सिंह परमार ने बताया कि पुलिस आरोपी को शनिवार अदालत में पेश कर पुलिस रिमांड हासिल करेगी। पुलिस टीम द्वारा आरोपी को अदालत में पेश किया गया जहां पर अदालत ने आरोपी को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया। 

Breaking news
राष्ट्रीय समाचार