Pal Pal India

डेरा प्रेमी के 2 नाबालिग हत्यारोपी रिमांड पर

दोनों शूटर हरियाणा के रहने वाले, कोटकपुरा पुलिस की दलील पर जुवेनाइल बोर्ड ने लिया फैसला
 
डेरा प्रेमी के 2 नाबालिग हत्यारोपी रिमांड पर

पंजाब के फरीदकोट में डेरा प्रेमी प्रदीप सिंह की 10 नवंबर को हत्या मामले के 2 नाबालिग शूटरों का पंजाब पुलिस ने रिमांड हासिल कर लिया है। कोटकपुरा पुलिस ने जुवेनाइल बोर्ड के हेड छ्वरूढ्ढष्ट अजयपाल सिंह के समक्ष पूरे मामले विस्तृत दलील पेश की। इसके बाद जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने दोनों शूटर का 5 दिन का रिमांड प्रदान किया। दोनों आरोपी शूटर हरियाणा के रोहतक के रहने वाले हैं। आरोपियों का रिमांड मिलने की पुष्टि ष्ठस्क्क शमशेर सिंह शेरगिल ने की है। दोनों आरोपी शूटरों को पूछताछ के लिए पंजाब लाया जा चुका है। इससे पहले आरोपियों को दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने काबू कर उनसे पूछताछ की थी।
पटियाला से काबू किए थे तीनों शूटर
दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने हरियाणा के रोहतक और भिवानी के रहने वाले 3 शूटर पंजाब के जिला पटियाला के बख्शीवाला से दबोचे थे। बालिग आरोपी की पहचान जतिंदर उर्फ जीतू के रूप में हुई थी, जबकि वारदात में शामिल 3 आरोपी फिलहाल फरार हैं। शूटरों ने प्रदीप सिंह पर 60 गोलियां चलाई थीं। इस हत्याकांड के पीछे पाक खुफिया एजेंसी ढ्ढस्ढ्ढ का हाथ होना सामने आया था। ढ्ढस्ढ्ढ ने रिंदा के जरिए डेरा प्रेमी की हत्या कराई थी। वहीं, हत्या की जिम्मेदारी गोल्डी बराड़ ने ली थी। कुछ दिन पहले ही रिंदा और गोल्डी बराड़ ने हाथ मिलाया था।
गैंगस्टर ने कहा- बेअदबी इंसाफ नहीं मिला, इसलिए हत्या की
सोशल मीडिया पोस्ट में गोल्डी बरा? के नाम से दावा किया गया था कि उन्हें बेअदबी केस में इंसाफ नहीं मिला, इसलिए ऐसा करना प?ा। इस पोस्ट में गनमैन के घायल होने पर अफसोस जताया। बेअदबी के आरोपियों को सुरक्षा देने पर सवाल उठाए गए। हालांकि यह पोस्ट बरा? ने की या किसी और ने, पंजाब पुलिस की साइबर सेल इसकी जांच कर रही है।
दुकान खोलते वक्त मारी गालियां
श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी केस के आरोपी डेरा प्रेमी प्रदीप सिंह की गुरुवार को पंजाब के फरीदकोट में हत्या कर दी गई थी। प्रदीप को उस समय निशाना बनाया गया, जब वह अपनी डेयरी (दुकान) खोल रहा था। 2 मोटरसाइकिल सवार 5 बदमाशों ने उन पर कई गोलियां चलाईं। इस हमले में गनमैन समेत तीन लोग जख्मी हो गए। इनमें पास का एक दुकानदार भी शामिल है।
अब समझें, बेअदबी केस क्या है
प्रदीप ने 2015 में बरगाड़ी गांव के गुरुद्वारा साहिब से श्री गुरु ग्रंथ साहिब को चोरी कर अंग फाड़ दिए थे। इस पर सिख समुदाय ने विरोध किया था। बाद में उस पर केस दर्ज हुआ और उसे जेल भेज दिया गया। अभी जमानत पर बाहर था। जान से मारने की धमकी के बाद प्रदीप को सुरक्षा मिली हुई थी।

......................................................................

पूर्व गवर्नर सत्यपाल मलिक का केंद्र पर हमला:बोले- किसानों से किए वादे नहीं निभाए, आंदोलन की दोबारा जरूरत
बीजेपी के सीनियर लीडर रहे हाल में मेघालय के गवर्नर पद से रिटायर्ड हुए सत्यपाल मलिक ने केन्द्र सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में गेहूं के दाम ब?ेंगे। इससे पहले ही अडाणी के पानीपत में गोदाम बनवा दिए गए। किसानों की फसलों का सही दाम नहीं मिला। जब आंदोलन खत्म हुआ तो कुछ मुख्य मांगे थी। केन्द्र सरकार ने तीनों कृषि कानून तो वापस ले लिए, लेकिन उस वक्त किया वादा पूरा नहीं किया। न किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस हुए और न ही किसानों को एमएसपी का दाम मिला। एमएसपी की गारंटी के कानून की बात ही नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि अगर फिर से किसानों ने आंदोलन किया तो वह हर जगह किसानों के बीच पहुंचेंगे। किसानों की आय ब?ाने की बात की थी, लेकिन आज तक किया कुछ नहीं है। उन्होंने कहा कि गवर्नर रहते दबाव तो उन पर भी बहुत आया, लेकिन उस दबाव को उन्होंने नहीं माना। बुधवार को वे जयपुर जाते वक्त दिल्ली-जयपुर हाईवे पर रेवा?ी के बावल कस्बा में एक स्वागत कार्यक्रम में रूके थे। सत्यपाल मलिक ने अहीर रेजिमेंट को लेकर भी खुलकर बोला। उन्होंने कहा कि अहीर रेजिमेंट तो बहुत पहले बन जानी चाहिए थी। अहीरों का गौरवशाली इतिहास किसी से छुपा नहीं है। उन्होंने कहा कि रेवा?ी का ही एक गांव कोसली ऐसा है, जहां एक घर में दो-दो लोग सेना में है। यहां के सैनिकों ने बहुत बलिदान दिया है

हरियाणा में किसानों को आइसोलेट किया जा रहा
पूर्व गवर्नर सत्यपाल मलिक ने कहा कि दुखद बात है कि हरियाणा में जातिवाद का जहर फैलाया जा रहा है। किसानों को आइसोलेट किया जा रहा है, लेकिन जब मौका आए तो बिरादरियों में मत बटना। एकत्रित हो जाना। ये कुछ नहीं बिगा? पाएंगे।
पूर्व सीएम मायावती पर साधा निशाना
मलिक ने कहा कि कोई मोदी-मोदी नहीं कर रहा। यह सब मीडिया का खेल है। उन्होंने कहा कि जहां अब चुनाव हो रहे है, वहां हर जगह ये घटेंगे। लोकसभा में तो इनका पता ही नहीं चलेगा। पश्चिम बंगाल, तेलांगाना, केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, राजस्थान हर जगह हारेंगे और सिर्फ यूपी में मायावती चूंकि आखिरी वक्त पर खेल कर देती हैं, पैसों के लालच में बाकी ना पंजाब जीतेंगे ना हरियाणा जीतेंगे।

Breaking news
राष्ट्रीय समाचार